Saturday, November 11, 2017



A seminar calling for providing nationalistic view through integrated elements of education was organized by Vidya Bharathi Tamilnadu in Chennai today wherein around 250 dignitaries from various schools participated. With a melodious song and lighting the lamp the seminar was inaugurated. Swami Mithrananda, Chinmaya Mission, Swami Buddhithananda Maharaj, Sri Ramakrishna Math, Dr. Krishna Shetty, Vidya Bharathi President (UTN), Shri P K Madhavan Ji Vidya Bharathi Akhil Bharathiya Shikshana Sansthan former President, Shri D K Hari and various Educationists were present.

Shri Chakravarthi, Vidya Bharathi welcomed the august gathering and emphasized on the ‘identity’ of holistic education in the national stream. 


Stressing on the mission to strengthen and vision holistic education Swami Mithrananda said that we need to create people with academic excellence with spiritual feeling rooted in Dharma. He elaborately threw light on Pancha Yagnas to be performed by any individual.

· Manushya Yagna – to serve humanity

· Pitru Yagna – It is not just offering Tarpana to our ancestors once a year – more than is to respect our ancestral values. It is our responsibility to protect our ancestral culture and pride.

· Bhootha Yagna – Pancha Maha Bhoothas to be worshipped. Our Bharatiya approach to protect and care our nature and environment should be taken care of.

· Rishi Yagna – Preserve and Promote the vedic knowledge given by our Rishis

· Deva Yagna – to seek God. Life is not just living for pleasures. Rashtra Bakthi should be in our system. It is our duty to bring back the values practiced in Akanda Bharat.

Brainstorming discussions were organized to accelerate and exchange ideas on spiritual, cultural, social and national awareness through education. The groups discussed on the problems, realities and solutions to carry forward and set practices in society.

Shri Madhavan Ji, Akhil Bharatiya Shikshana Sansthan in his concluding speech emphasized on all round development through education. Wellbeing of humanity is based on four purusharthas – Dharma, Artha, Kama and Moksha. In the modern context, it is Desha Bodha, Samaj Bodha, Samskriti and Adyathamatha Bodha. Nationality is based on culture and the culture is nurtured by society. National education is based on values.

Pancha Koshas – Sharirik, Yoga, Sangeetha, Samskruti, nithik and adyathmik inculcate unique personality. Development should aim at Pancha Koshas and our education should have Pancha Mukha Shiksha to strengthen the national consciousness and the success depends on the spirit carried by the teachers, he concluded.

With a vote of thanks to the audience present the seminar concluded.

Wednesday, November 8, 2017

Pune, 4th November 2017

Dr. Krishna GopalJi, Sah Sarkaryawah of RSS, said that Bharat is described in its scriptures. Although thoughts in these scriptures are global in nature, there is utmost reverence for the source of this wisdom. That we are Bhartiya and Global at the same time, is an unparalleled poise.

Honourable Governor of Gujarat, Shri. OmPrakash Kohli, inaugurated 2 day Symposium “GyanSangama” organized by Pragnya Pravah & Prabodhan Manch in SavitriBai Phule Pune University Campus. “Nationalism in Indian Education Practices and Present Context” was the theme of this symposium. Shri Krishna GopalJi was addressing this Symposium as Chief Speaker. Luminaries present on the dais were

1. Vice Chancellor of SavitriBai Phule Pune University, Shri Nitin Karmalkar

2. Convener of Pragnya Pravah, Shri J. Nandakumar

3. Akhil Bhartiya Sampark Pramukh of RSS, Prof. Anirudh Deshpande.

4. Shri Haribhau Mirasdar of Prabodhan Manch.

5. Organizer of “GyanSangama” , Dr. Anand Lele.

Analysing Bharatiya society which was the consequence of educational practices right from Vedic age, Dr. Krishna GopalJi said that there are subtle differences in the western and Bhartiya notion of nation and nationalism. Thousand years of slavery obstructed Bhartiya wisdom and knowledge to spread its wings. We lost our own identity. Therefore we need to understand what should be the direction of Bharat. We need to understand the western notion of nation. We also need to understand Bhartiya notion of nation and nationalism. West developed its notion of nation after French revolution. Western notion of nation is based on differentiation. There is no such premise in Bhartiya wisdom. We follow the premise of benevolence for every living organism in our notion of nation. We consider this earth our mother. Bharat is described in its scriptures. Although thoughts in these scriptures are global in nature, there is utmost reverence for the source of this wisdom. That we are Bhartiya and Global at the same time, is an unparalleled poise.

Bhartiya wisdom is a confluence of global fraternity and spirituality. This wisdom is deeply embedded in every individual of Bharat. Every sect on this land, Vedic, non-Vedic, Shaiv, Vaishnav, swear by the thought of society upheaval and general good. Such wisdom is not visible in the western notion of nation.

Dr. Krishna GopalJi said that Britain’s ex-prime minister Winston Churchill once famously quoted that India will not retain its unity post-independence. However he was proved wrong. Bharat could retain its unity amidst diversity by virtue of its cultural bonding. On the contrary many western nations such as erstwhile USSR, Yugoslavia, are no more on the world map. They got fragmented into many small nations. Today, Catalina is vying for independence from Spain!!!!

Convener of Pragnya Pravah, Shri J. Nandkumar said, Bharat is land of knowledge and wisdom. Place where one takes pleasure in sharing knowledge is called Bharat. Unfortunately we were the recipient of many external aggression which inhibited the flow of Bhartiya wisdom and knowledge to larger masses. To our dismay, even after independence this flow did not get rejuvenated. We are still intellectual slaves of imperialism. Pragnya Pravah is a cultural attempt to rekindle Bharat specific intellectual discourse. It is our endeavour to put Bhartiya discourse on global platform. Same is the objective of organizing “GyanSangama” too. We ought to analyse Bhartiya knowledge and wisdom in contemporary context. To accomplish the same, “GyanSangama” which is a confluence of scholars, is being organized on pan India level. It will happen on 6 places within Bharat.

Honourable Governor of Gujrat, Shri. OmPrakash Kohli, said, Roots of any education should lie in its cultural heritage. If not so, education leads to unruliness. We could not retain the roots of our cultural heritage in our education system during Mughal and British rules. Muslim aggression made us politically fallible but kept us psychologically invincible. However 200 years of British rule made us fallible both psychologically and politically. How to overcome such psychological barriers is a critical question in front of us. Panacea lies in associating sense of nationalism with education.

Quoting Mahrishi Arvind, Shri. OmPrakash KohliJi said, Bhartiya masses are bonded together with the sense of cultural identity. Spirituality is the basis of Bhartiya culture. Omnipresence is one virtue of the same. Another virtue is eternity. We do observe signs of weakness though every now and then. Heritage is nothing but the cultural treasure which we pass from one generation to another. If we wish to retain our heritage, education has to play a critical role. If there are gaps in our education system to achieve this goal, we ought to fill this gap by means of Bhartiya education system. Our education should not only be close to our natural instincts but also prepare us to take on contemporary challenges.

He expressed his displeasure about the fact that we have dependent education in an independent nation. To weed out guilty consciousness, Bhartiyakaran of our education is must. We must pass on our notion of nation to our future generations.

Vice Chancellor of SavitriBai Phule Pune University, Shri Nitin Karmalkar said, one of the contemporary challenges facing us is how to provide quality education to all. We must contemplate an education system which can provide meaningful employment to our youth. Nalanda and Takshshila form our educational heritage. Our curriculum should put together nobility and novelty from both ancient and modern education systems.





भारत की राष्ट्र की अवधारणा विशिष्ट है, अद्भूत है - डॉ. कृष्ण गोपालजी






पुणे, 4 नवंबर – राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह डॉ. कृष्ण गोपालजी ने आज यहां कहा, कि भारत के पूरे साहित्य में भारत का वर्णन है| इसमें वैश्विक भावना तो है लेकिन यह विचार जहां से आया है उसके प्रति भक्ति भी है| वैश्विक होते हुए भी हम भारतीय है, यह अद्वितीय समन्वय है।

सावित्रीबाई फुले पुणे विश्वविद्यालय में प्रज्ञा प्रवाह तथा प्रबोधन मंच की ओर से आयोजित दो दिवसीय संगोष्ठी ‘ज्ञानसंगम’ का उद्घाटन श्री. कोहली के हाथों हुआ| ‘भारतीय शैक्षिक परंपरा में राष्ट्रबोध एवं वर्तमान संदर्भ’ विषय पर यह संगोष्ठी आयोजित है| इस अवसर पर श्री. कृष्ण गोपालजी मुख्य वक्ता के तौर पर संबोधन कर रहे थे| गुजरात के राज्यपाल ओमप्रकाश कोहली के हाथों इस संगोष्ठी का उद्घाटन हुआ। सावित्रीबाई फुले पुणे विश्वविद्यालय के कुलगुरू नितीन करमलकर, प्रज्ञा प्रवाह के राष्ट्रीय संयोजक जे. नंदकुमार, रा. स्व. संघ के ९ भारतीय संपर्क प्रमुख प्रो. अनिरुद्ध देशपांडे, प्रबोधन मंच के हरिभाऊ मिरासदार तथा ज्ञानसंगम के संयोजक डॉ. आनंद लेले इस अवसर पर मंच पर उपस्थित थे|

वैदिक काल से लेकर देश की शिक्षा संस्कृति और उससे विकसित भारतीय समाज का जायजा लेते हुए श्री. कृष्ण गोपालजी ने कहा, ‘पश्चिमी राष्ट्रवाद आणि भारतीय विचार में बड़ा फर्क है जिसे समझने की आवश्यकता है। “पिछले एक हजार वर्षों में भारतीय ज्ञान का प्रवाह अवरुद्ध हुआ था| हम कौन है? भारत की दिशा क्या होनी चाहिए? इसका हमें विचार करना होगा| हमें पाश्चात्य ‘नेशन’ की अवधारणा को समझना होगा और छात्रों को ठीक से समझाना होगा| भारत का राष्ट्रभाव समझना होगा| फ्रांसीसी क्रांति के बाद पश्चिमी जगत् में नेशन की अलग ही कल्पना विकसित हुई| पश्चिम की नेशनिलिटी अलगता पर आधारित है| भारत के किसी भी शब्दकोश में एक्सक्लुजिव शब्द नहीं है| भारत में अलगता की कल्पना नहीं है| भारत में राष्ट्र की भावना लोकमंगलकारी है| लोकमंगलकारी यानि सभी प्राणियों के कल्याण की भावना| हमने पृथ्वी को मां माना है| भारत के साहित्य में भारत का वर्णन है| वैश्विक भावना तो है लेकिन यह विचार जहां से आया है उसके प्रति भक्ति भी है| वैश्विक होते हुए भी हम भारतीय है, यह अद्वितीय समन्वय है|"

भारतीयों में विश्वबंधुत्व आणि अध्यात्म का जोड़ है। यह विचार देश के हर कोने और हर व्यक्ति तक पहुंच चुका है। हिंदूओं में वैदिक, अवैदिक, श्रमणों से लेकर वीरशैव तक के पंथों में समाज कल्याण और समाज उद्धार का विचार है जो युरोपीय राष्ट्रवाद में नहीं दिखता, उन्होंने कहा।

श्री. कृष्णगोपालजी ने कहा, ”ब्रिटिश प्रधानमंत्री विस्टन चर्चिल ने कहा था, कि भारत स्वतंत्रता के बाद एक नहीं रहेगा। ळेकिन भारत में बड़े पैमाने पर विविधता होने के बावजूद केवल सांस्कृतिक बंध के कारण ही भारत अखंड है। इसके विपरीत सोविएत महासंघ, युगोस्लाव्हियासहित युरोप के कई देशों का विभाजन हुआ है। आज भी स्पेन के कैटेलोनिया जैसे प्रांत में स्वतंत्रता की मांग ने तुल पकड़ी है।”

प्रज्ञा प्रवाह के राष्ट्रीय संयोजक जे. नंदकुमार ने कहा, “हमारा देश ज्ञानभूमि है| आनंद देते हुए और आनंद लेते हुए जहां ज्ञान दिया जाता है उस देश का नाम है भारत| हमारे देश पर कई आक्रमण हुए| कुछ वर्ष गुलामी में बीते, शायद इसलिए ज्ञान का आदानप्रदान कम हुआ| स्वतंत्रता के बाद भी इसमें गति नहीं आई| वैचारिक क्षेत्र में उपनिवेशवाद आज भी चल रहा है| आज भी सांस्कृतिक गुलामी जारी है| भारतकेंद्रीत अध्ययन को बढावा देने के लिए जो सांस्कृतिक प्रयास शुरू हुआ उसका नाम है प्रज्ञा प्रवाह| भारतकेंद्रीत चिंतन को विश्व के सामने रखना है| ज्ञानसंगम का आयोजन इसी उद्देश्य से किया गया है। भारतीय शिक्षा परंपरा और ज्ञान पर कालसुसंगत विचार विनिमय करने हेतु ज्ञानसंगम नामक विद्‌वत सभा की अखिल भारतीय स्तर पर आयेाजन किया गया था। यही उपक्रम वैचारिक क्षेत्र में आंदोलन का कान करनेवाले प्रज्ञा प्रवाह नामक मंच के माध्यम से देश में क्षेत्रीय स्तर पर छह स्थानों पर आयोजित किया जा रहा है|”

राज्यपाल कोहली ने कहा, “शिक्षा की जड़़े उसे देश की संस्कृति में होनी चाहिए| ऐसा न हो तो वह अराजकीय हो जाती है| मुस्लिम और ब्रिटिश काल में हम अपनी शिक्षा की जड़ें अपनी संस्कृति में रख नहीं पाए| मुस्लिम आक्रमण के समय हम राजनैतिक रूप से पराजित हुए लेकिन मानसिक रूप से अजेय रहे| ब्रिटिशों के 200 वर्षों के राज में हम न केवल राजनैतिक बल्कि मानसिक रूप से पराजित हुए| इस मानसिक पराजय से कैसे उबरना है यह हमारे सामने अहम सवाल है| स्वतंत्र भारत को हमें राष्ट्रबोध से जोड़ना इसलिए शिक्षा को भी राष्ट्रबोध से जोड़ना है|”

महर्षि अरविंद को उद्धृत करते हुए श्री. कोहली ने कहा, “भारतीय लोग सांस्कृतिक भावना से जुड़े हुए है| भारतीय संस्कृति का मूल भाव अध्यात्म है| सार्वभौमिकता उसका एक गुण है| वह शाश्वत है यह उसका दूसरा गुण है| कभी-कभी इसमें दुर्बलता आती है| एक पिढी से अगली पीढ़ी में संपदा संक्रमण करना यही परंपरा है| हमें अपनी परंपरा जिंदा करनी है तो उसमें शिक्षा की महत्वपूर्ण भूमिका है| अगर शिक्षा इसमें कम पड़ती है तो इसमें सुधार करना होगा और शिक्षा का भारतीयकरण करना होगा| शिक्षा हमारी देश की प्रकृति से जुडनी चाहिए, साथ ही आधुनिक चुनौतियों से लढ़ने में वह सक्षम होनी चाहिए||”

उन्होंने अफसोस जताया, कि स्वतंत्र देश में शिक्षा अभी भी परतंत्र है| अपराधबोध निकालने के लिए शिक्षा का भारतीयकरण जरूरी है| हमारे ऋषियों जो राष्ट्र की अवधारणा दी है, उसे अगली पीढी तक पहुंचाना होगा|

मानवशास्त्र के विषय में राष्ट्रबोध लाना होगा|

कुलुगुरु नितीन करमलकर ने कहा, “गुणवत्ता से समझौता किए बिना सबको शिक्षा प्रदान करना हमारे देश के सम्मुख उपस्थित समस्याओं में से एक है| शिक्षा प्रणाली के सर्वोत्कृष्ट परिणाम पाकर छात्रों को रोजगार मुहैय्या कराने के लिए हम सबको मिलकर विचार विमर्श करना चाहिए| नालंदा और तक्षशीला से लेकर भारत में शिक्षा की प्राचीन परंपरा रही है| हमारे पाठ्यक्रम में प्राचीन शिक्षा प्रणाली और आधुनिक ज्ञान का संगम होना चाहिए|” कार्यक्रम का सूत्रसंचालन प्रसन्न देशपांडे ने किया|




Wednesday, November 1, 2017



The temple city of Madurai played host to the 3rd seminar of the ‘India at 70’ series by Tamil Nadu Young Thinkers Forum (TNYTF), on October 26, 2017. Organised in association with Saraswathi Narayanan College, the seminar was titled “India at 70: The Significance of Jammu and Kashmir”. October 26 is significant as it is on this date 70 years ago that Maharaja Hari Singh acceded Jammu and Kashmir to the Dominion of India, under a legitimate instrument of accession. 


The evening opened to a packed audience to be addressed by Major General Shri Dhruv C. Katoch, Director of India Foundation; Senior Journalist and Author, Shri Rahul Pandita; Author, Blogger, Writer and Columnist Ms. Dimple Kaul; and, Senior Research Fellow from India Foundation and Lawyer, Shri Guru Prakash. 
 
Major General Katoch described the skirmishes that the people of Jammu and Kashmir undergo on daily basis, the sacrifices of the soldiers serving in the region and the co-ordination between the two, despite what might be portrayed by the media. He appealed for the undeterred support of people from across the state and indeed the country, towards a unified Jammu and Kashmir. 
 

Shri Rahul Pandita, from his exploits as a journalist having reported from war fronts, gave a brief but extremely touching insight into what went on in the mind of a young boy who witnessed the traumatic attacks on the Kashmiri Pandits in 1990, and those that preceded it. His account shared how life was harmonious until the nightmare of January 19, 1989, and what it had brought upon the lives of the Kashmiris. The destruction of their culture and being thrown out of lands that their ancestors had lived in for more than 3000 years, truly speaks of “blood clots on their moon”. It should pain every one of us that we have failed to protect our brothers and sisters while they were made refugees in their own and our own country. Pandita gave a ray of hope that every Kashmiri in exile will complete their vanavas and return home. 

The spirited talk of Ms. Dimple Kaul, started by outlining the relationship between Madurai and Jammu and Kashmir. Her articulate depiction of the history of Jammu and Kashmir and its relationship with every state of India clearly showed that the lives of the people of the valley are intertwined with the very fabric of India and Indians.

Shri Guru Prakash, in his unflinching address, outlined the legal validity of the Agreement of Accession, and its acceptance by world bodies and other countries. Prakash broke down the complexities in Article 370, 35A and the special provisions, for the audience to be able to better understand them. He further explained the need for political will and the larger acceptance of the people of the valley for course correction, and constitutional amendments to turn the wheels around.

The seminar contextualized the spiritual, emotional, linguistic, cultural and historical bonds that bind Jammu and Kashmir with the rest of India. While the state of Jammu and Kashmir has been in conflict for the last three decades, the seminar highlighted that this is but a blip when viewed in the larger historical context. The importance of the state as part of the Indian Union is not just a matter of geography but encompasses the very idea and soul of India.



Around 100 RSS volunteers of Perambur Bagh Chennai actively participated in the Blood donation camp held at sowcarpet nagar on 29th October as a part of Seva Sanghik. 

Tuesday, October 24, 2017


FANS- Forum for Awareness of National Security- under the guidance of Ma. Indresh Kumar Ji member, National Executive of RSS organized a Motor Cycle Yatra for 15 days from 13th October to 28th October. The Yatra was inaugurated with Ganesh Pooja at 1500 year old Chinthamaneeswar temple built by Chola Kings at Pazhaverkadu on the border between Andhra and Tamilnadu.

Saturday, October 14, 2017



Two-thirds of Rashtriya Swayamsevak Sangh's branches runs in villages and one-third in the cities. Since almost 60 percent of the society lives in the village in India, under present circumstances there are many challenges before the rural environment. Therefore, RSS All India Executive Council Meet, emphasized on the need to do more work in the villages through Shakas. There is a great challenge of social harmony in the village. Despite the availability of communication media, there is a lack of accurate and useful information in rural areas. An effort should be made to bring the right information and the right perspective in the village. On the concluding day of the meeting of the All India Executive Board, the Sarkaryavya of the Sangh, Shri Suresh Bhaiyaji Joshi, while briefing the reporters, informed about the major decisions taken during a three-day meeting during the three-day meeting. On this occasion, All India Prachar Pramukh Dr. Manamohan Vaidya was also present.
Sarkaryavya Shri Bhaiyaji Joshi said that with ideas and discussions made in ABKM and work plan has been designed towards Gram Vikas and Kutumba Prabodhan. For the past few years, the farmers are battling many questions and the Sangh feels that we should work towards making the farmer a self-reliant. Understanding the questions of the farmers, the government should formulate a favorable policy. The ABKM meet also discussed the issues of agriculture. The Sangh will endeavor that farmers return to organic farming. The Sangh has made some plans in this direction. He told that the farmers need to become economically viable too. For this, the government should make a policy that farmers can get fair price for their crops. He said that to work in the field of village development, the Sangh will connect the people of 30-35 age group with them.
Shri Bhaiyaji Joshi told that the Sangh has taken up the task of strengthening the family system through Kutumba Prabodhan. Family plays an important role in shaping a person. If the children are imparted with good Sanskar ​​and values ​​of life, then their development is fine. The Sangh volunteers are working towards creating a family centred with society awareness. Through Sangh work, around 20 lakh families are connected. According to an estimate, twenty five crore people have come in contact with Sangh. To create a positive environment in society, there is a need to enhance the work of family awareness. He told that in the meeting of the All India Executive Board, the subjects which have been considered will be given final shape in the National Council Meet in March.

Shri Bhaiyaji Joshi, the Chief Minister said in a reply to a question that Rohingya is a serious question. It should be considered why are they being expelled from Myanmar? Myanmar also seems to have limitations from other countries, but why were Rohingya Muslims not allowed in those countries? It should also be seen that Rohingya who came in the past which are the areas have they settled in India. They chose Jammu and Kashmir and Hyderabad to live their life. From the behaviour of those Rohingyas who have come to India till date, does not seem that they have come here to take shelter. Government should form a policy in granting shelter to refugees, fixing place and duration, arrangements for the refugees to return etc. He said that India has always welcomed the refugees. But, those who are being sheltered should first look at their background. There is also a limit to consider as humanity. He said that the people who are supporting Rohingya Muslims, also need to see and understand their background.
In response to a question asked about Ram temple, Shri Bhaiyaji Joshi said that the Sangh wanted that all obstacles should be resolved first and then Ram Mandir would be built. The government should endeavor to end the barriers. At present, preparations for construction of Ram Mandir are going on in Karsewakpuram, as soon as obstacles are resolved, the temple construction will start. Regarding reservation, he said that reservation should be kept till the fulfillment of that purpose by Baba Saheb, Dr. Bhimrao Ambedkar has arranged for reservation for the purpose. He said that the society receiving reservation should decide how long it needs reservation. 

ग्राम विकास एवं कुटुंब प्रबोधन के कार्यों को गति देगा संघ

भोपाल, 14 अक्टूबर। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की दो तिहाई शाखाएं गांव में और एक तिहाई नगरों में चलती हैं। चूँकि भारत में लगभग 60 प्रतिशत समाज गांव में बसता है। वर्तमान परिस्थितियों में ग्रामीण परिवेश के समक्ष अनेक प्रकार की चुनौतियां हैं। इसलिए संघ की अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की बैठक में शाखाओं के माध्यम से गांवों में और अधिक कार्य करने की आवश्यकता पर बल दिया गया। गांव में समरसता की बड़ी चुनौती है। संचार माध्यमों की उपलब्धता के बाद भी ग्रामीण क्षेत्र में सही और उपयोगी जानकारियों का अभाव है। गांव में सही जानकारी और सही दृष्टिकोण पहुंचाने का प्रयास किया जाना चाहिए। अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की बैठक के समापन अवसर पर संघ के सरकार्यवाह श्री सुरेश भैय्याजी जोशी ने पत्रकारों से संवाद के दौरान तीन दिवसीय बैठक में लिए गए प्रमुख निर्णयों की जानकारी देते हुए यह बताया। इस अवसर पर अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख डॉ. मनमोहन वैद्य भी उपस्थित रहे।
                सरकार्यवाह श्री भैय्याजी जोशी ने बताया कि अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की बैठक में ग्राम विकास और कुटुंब प्रबोधन के विषय में विचार-विमर्श कर कार्य योजना बनाई गई है। पिछले कुछ समय से गांव और किसान अनेक प्रश्नों से जूझ रहे हैं। संघ का विचार है कि किसान को स्वावलंबी बनाने की दिशा में कार्य किया जाना चाहिए। किसानों के प्रश्नों को समझकर उनके अनुकूल नीति सरकार को बनानी चाहिए। बैठक में कृषि के संबंध में भी विचार किया गया है। संघ प्रयास करेगा कि किसान जैविक खेती की ओर लौटें। संघ ने इस दिशा में कुछ योजना बनाई है। उन्होंने बताया कि किसानों को आर्थिक रूप से सक्षम बनाने की आवश्यकता है। इसके लिए सरकार को नीति बनानी चाहिए कि किसानों को उनकी फसल का उचित मूल्य मिल सके। उन्होंने बताया कि ग्राम विकास के क्षेत्र में कार्य करने के लिए संघ 30-35 आयुवर्ग के व्यक्तियों को अपने साथ जोड़ेगा।
                श्री भैय्याजी जोशी ने बताया कि परिवार व्यवस्था को सुदृढ़ करने के लिए संघ ने कुटुंब प्रबोधन का काम अपने हाथ में लिया है। व्यक्ति के निर्माण में उसके परिवार की भूमिका बहुत महत्त्वपूर्ण है। बच्चों को संस्कार और जीवनदृष्टि परिवार से मिले तो उनका विकास ठीक प्रकार होता है। परिवार समाज जागरण का केंद्र बनें, इसके लिए संघ के स्वयंसेवक कार्य कर रहे हैं। संघ कार्य के माध्यम से लगभग 20 लाख परिवारों तक पहुंचा है। एक अनुमान के अनुसार सवा करोड़ लोग संघ के संपर्क में आए हैं। समाज में सकारात्मक वातावरण बनाने के लिए कुटुंब प्रबोधन के कार्य को बढ़ाने की आवश्यकता है। उन्होंने बताया कि अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की बैठक में जिन विषयों पर विचार किया गया है, मार्च में होने वाली प्रतिनिधि सभा की बैठक में उन्हें अंतिम स्वरूप दिया जाएगा।
                सरकार्यवाह श्री भैय्याजी जोशी ने एक प्रश्न के उत्तर में बताया कि रोहिंग्या गंभीर प्रश्न है। यह विचार करना चाहिए कि आखिर म्यांमार से उन्हें निष्कासित क्यों किया जा रहा है? म्यांमार से अन्य देशों की सीमाएं भी लगती हैं, परंतु उन देशों में रोहिंग्या मुसलमानों को प्रवेश क्यों नहीं दिया गया? यह भी देखना होगा कि पूर्व में आए रोहिंग्या भारत में किन क्षेत्रों में बसे हैं? उन्होंने अपने रहने के लिए जम्मू-कश्मीर और हैदराबाद को चुना है। जो रोहिंग्या अब तक भारत आए हैं, उनके व्यवहार से यह नहीं लगता कि वह यहाँ शरण लेने के लिए आए हैं। शरणार्थियों के संबंध में सरकार को नीति बनानी चाहिए, जिसमें उनको शरण देने की नीति, स्थान और अवधि तय हो। एक कालावधि के बाद शरणार्थियों को वापस भेजने की व्यवस्था बने। उन्होंने कहा कि भारत ने सदैव शरणार्थियों का स्वागत किया है। परंतु, जिनको शरण दी जा रही है, पहले उनकी पृष्ठभूमि को देखना चाहिए। मानवता के नाते विचार करने की भी एक सीमा होती है। उन्होंने इस बात को प्रमुखता से कहा कि जो लोग रोहिंग्या मुसलमानों का समर्थन कर रहे हैं, उनकी पृष्ठभूमि भी देखने और समझने की आवश्यकता है।
                राम मंदिर के संबंध में पूछे गए एक प्रश्न के उत्तर में श्री भैय्याजी जोशी ने कहा कि संघ चाहता है कि पहले समस्त बाधाएं समाप्त हों, फिर राम मंदिर का निर्माण हो। बाधाओं को समाप्त करने की दिशा में सरकार को प्रयास करना चाहिए। वर्तमान में कारसेवकपुरम् में राम मंदिर निर्माण की तैयारियां चल रही हैं, जैसे ही बाधाएं समाप्त होंगी, मंदिर निर्माण प्रारंभ हो जाएगा। आरक्षण के विषय में उन्होंने बताया कि बाबा साहब डॉ. भीमराव अंबेडकर ने जिस उद्देश्य के लिए आरक्षण की व्यवस्था की है, उस उद्देश्य की पूर्ति तक आरक्षण रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि आरक्षण प्राप्त करने वाले समाज को ही यह तय करना चाहिए कि उसे कब तक आरक्षण की आवश्यकता है?



ABVP has called for a huge rally in Kerala on Nov 11 to expose the communist brutality on activists of nationalist organizations in the state

ABVP demands justice for its activists being killed in Kerala just because they disagree with the ruling CPIM’s ideology


The CPI-M has been conducting cold blooded murders against its political opponents in Kerala especially at times when it is in power in the state. Several of our activists have been martyred fighting communist terror and our offices have been attacked time and again. This year, ABVP is gearing up for a major public protest against this.
 
The capital city of Kerala, Thiruvananthapuram will witness a major rally on November 11th against the CPI-M atrocities and is named ‘Chalo Kerala’ with more than 50,000 ABVP workers, leaders and members from across the country flocking to Thiruvananthapuram to take part in this historic march raising their voice against the human rights violation and bloody murders conducted by the CPI-M and their student body, SFI. Outside Kerala, in other states, the SFI and CPI-M speak of human rights violation and student rights but in Kerala the CPI-M and SFI do not allow their opponents to even work, leave alone freedom of expression and thoughts. They kill their political rivals in the most brutal fashion of barbarians like killing by hurling stones and boulders. We have seen this in Parumala Dewaswom Board College when three ABVP workers: Sujith ,Kim Karunakaran and PS Anu were killed by hurling stones against them while they were trying to escape the brutal thrashing by SFI, CPM, CITU and DYFI workers by jumping into river Pampa. However on the tragic day of September 17th 1996 the students were not even allowed to raise their heads in Pampa river as boulders and stones were hurled at them in vengeance from the banks of the river and they succumbed to death. This action which can never be accepted in a democratic society. This is however the Communist style of work: brutal and savage.
 
The case of the elected Chairman of Guruvayur Sreekrishna college, Sanoop is a classic example of how intolerant CPI-M and its student wing SFI is. There was an undeclared rule made by the dictatorial SFI in the College that only the flag post and flag of SFI should be seen and nomination papers were not allowed to be filed by other student organizations in College elections, except that of SFI. One week after Sanoop joined college he faced severe thrashing following him wearing Rakshasutram. However, Sanoop did not back out and contested elections and got elected as Chairman of Guruvayur Sreekrishna College with a margin of 24 votes. It was a major shock for the SFI in their bastion. SFI decided to take its revenge when he was appearing for the university exams on 28th February 2008. That day, Sanoop was brutally attacked by a group of SFI goons and his left eye was completely injured following beating with iron rods on his head and both his legs and arms were broken with multiple fractures in his legs and arms. Sanoop lost his left eye forever. The CPI-M has done of the cruelest murders in world history. In 1999, they barged into an Upper Primary classroom of Mokeri East UP school in Panur, Kannur district and lynched Yuva Morcha state vice president K.T.Jayakrishnan Master who was teaching children. Such killing of a teacher in front of his students in a classroom is unheard of.
 
As the leftists are holding an ideology which has been rejected across the world, they are trying to save their last bastions with whatever means they can and these cold blooded murders and killings seems to be their last ploy for survival or rather existence. When they cannot fight an ideological battle, they are resisting to this physical battle with people who don’t agree to their ideology.
 
Recently, we saw a Communist leader who was arrested for a case relating to attempt murder of BJP workers putting the official cap of the Sub Inspector of Police and then posted his selfie and uploading in social media. Political power seems to have taken to the head of the Communists. Hundreds of people have succumbed to the killer knifes of the Communists in Kerala. In Kerala, more than 250 nationalist activists have been killed by the CPIM goons. In Kannur district alone more than more than 82 activists of organizations related to RSS have been butchered by CPI-M goons.
 
Several ministers of the Pinarayi Vijayan cabinet including the Chief Minister are accused in murder cases. The CPI-M state secretary Kodiyeri Balakrishnan is also a murder accused. So, right after this government was formed, attacks have increased manifold. In this scenario, it is important that nationalist students from all over the country stand in solidarity with the nationalist students of Kerala who are fighting communist terror on a daily basis. God’s own country Kerala, which is known for its natural beauty as well as hard working people, needs to be saved from this murderous spree of the communist brigade. Only through strong public movement can this communist culture of autocracy, violence, intimidation and murders be curbed and for that all democratically oriented citizens must join together to raise voice against communists in Kerala.



The Sangh work is growing continuously. There was an increase of about 550 shakas than last year. At present there are more than 34000 daily shakas and more than 15000 weekly milans. In 49,493 places through daily shaka and weekly milan Sangh work is going on. Along with this, 1600 shakas and 1700 weekly milans has also increased, said Shri Dattatreya Hosabale at ABKM press conference, Bhopal. There is a considerable participation of youth in nation building work. Youth are joining RSS through ‘Join RSS’, tech savvy, seva activities. The number of youth joining RSS has increased by 48% in 2016 and 52% in 2017 compared to that of 2015. He further informed that Sangh swayamsevaks are working in village developme t, family planning and social harmony. With the efforts of Sangh volunteers, there have been significant changes in about 450 villages. RSS believes that a strong and prosperous family reflects the nation. Concerned about this idea, the Sangh volunteers began using family awareness in Karnataka 15 years ago. Today this experiment is being run across the country, whose positive results are getting. In order to understand the importance of family awareness, everyone should read a book of Dr. APJ Abdul Kalam, who is based on communicating with him and on Jain Saint Acharya Mahapragna on the subject of family awareness. This book has good guidance on family values ​​and nation building. The meet will review Sangh action work and Sangh Shiksha Varg.

He said that the enlightenment of Sarsanghchalak on Vijaya Dashmi reflects the policy of the Sangh. The Sangha has organized a discussion on various topics in the enlightenment between intellectuals at around 20 places in the country. The enlightened class has also expressed consensus and support for the views expressed by the Sarsanghchalak about various subjects. Mr. Hosbale said that everyone should be firm on their opinion, but there should be a healthy dialogue among the society. Regarding the attacks on the workers of the union, he said that the number of murderous attacks on RSS workers in Kerala, West Bengal, Punjab and Karnataka has increased. Attacks on Sangh workers demonstrate the ideological defeat of the attackers. In order to save the existence of a particular ideology, its workers are attacking volunteers of the Sangh.

Inauguration of exhibition 'Dharohar': Inauguration of 'Dharohar', an exhibition focused on the life philosophy of the great men, was inaugurated by Shri Suresh Jai Soni at 8:15 pm on Thursday. The exhibition depicts the life philosophy of Padmabhushan Kushok Bakul Rinpoche. This is his birth centenary year. He did important work for the spread of education and social reform in Jammu and Kashmir. In addition to this, the life philosophy of sister-in-law Nivedita was also displayed in the celebration of 350th birth anniversary of Guru Gobind Singh and 150th birth anniversary. Pictures were also displayed in connection with the founder of the RSS, Dr. Keshav Baliram Hedgewar. 
 
जुड़ रहे हैं युवा, तेजी से बढ़ रहा है संघकार्य - दत्तात्रेय होसबाले
भोपाल, 12 अक्टूबर। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का कार्य लगातार बढ़ रहा है। पिछले वर्ष संघ की शाखा के स्थान में लगभग 550 की वृद्धि हुई है। वर्तमान में 34 हजार से अधिक स्थानों पर प्रतिदिन शाखा और 15 हजार से अधिक स्थानों पर साप्ताहिक मिलन संचालित हो रहे हैं। अर्थात् लगभग 49 हजार 493 स्थानों पर शाखा और मिलन के माध्यम से समाज में संघकार्य चल रहा है। इसके साथ ही 1600 शाखाओं और 1700 साप्ताहिक मिलन की संख्या में भी वृद्धि हुई है। सह सरकार्यवाह श्री दत्तात्रेय होसबाले ने भोपाल स्थित शारदा विहार में संघ के अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की बैठक के औपचारिक शुभारंभ के बाद पत्रकारों को यह जानकारी दी। गुरु गोविंद सिंह सभागार में भारत माता की प्रतिमा पर पुष्पार्चन कर संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत और सरकार्यवाह श्री सुरेश भैयाजी जोशी ने कार्यकारी मंडल की बैठक का शुभारंभ किया। इस अवसर पर देशभर से आए लगभग 350 संघ के कार्यकर्ता बैठक में उपस्थित हैं। बैठक में 11 क्षेत्रों एवं 42 प्रांतों के पदाधिकारी शामिल हुए हैं। अखिल भारतीय पदाधिकारी, क्षेत्रों एवं प्रांतों के संघचालक,कार्यवाह, प्रचारक आगामी तीन दिन में संघ की तीन वर्ष की कार्य योजना, कार्य विस्तार और दृढ़ीकरण पर विचार-मंथन करेंगे।
सह सरकार्यवाह श्री दत्तात्रेय होसबाले ने बताया कि समाज में संघ कार्य बढ़ा है। संघ कार्य के विस्तार में युवाओं की बड़ी भूमिका है। संघ का एक प्रकल्प है ज्वाइन आरएसएस, इसके माध्यम से बड़ी संख्या में टेक्नोसेवी युवा संघ से जुड़ रहे हैं। ज्वाइन आरएसएस के माध्यम से जुड़ने वाले युवाओं की संख्या में 2015 की तुलना में 2016 में 48 प्रतिशत और 2017 में 52 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। यह सभी आंकड़े जनवरी से जून तक के हैं। इनमें 20 से 35 आयु वर्ग की संख्या अधिक है। उन्होंने बताया कि संघ ग्राम विकास, कुटुम्ब प्रबोधन और सामाजिक समरसता जैसी गतिविधियां संचालित कर रहा है। संघ के कार्यकर्ताओं के प्रयास से लगभग 450 गाँवों में उल्लेखनीय बदलाव आया है। श्री होसबाले ने बताया कि संघ मानता है कि परिवार समृद्ध और सुदृढ़ होंगे तो राष्ट्र भी समर्थ बनेगा। इस विचार को लेकर संघ के कार्यकर्ताओं ने 15 वर्ष पूर्व कर्नाटक में कुटुम्ब प्रबोधन का प्रयोग प्रारंभ किया। आज यह प्रयोग पूरे देश में चलाया जा रहा है, जिसके सकारात्मक परिणाम प्राप्त हो रहे हैं। कुटुम्ब प्रबोधन का महत्त्व समझने के लिए सबको डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम की एक पुस्तक पढ़नी चाहिए, जो कुटुम्ब प्रबोधन के विषय पर उनके और जैन संत आचार्य महाप्रज्ञ के साथ संवाद पर आधारित है। इस पुस्तक में पारिवारिक मूल्यों और राष्ट्र निर्माण पर अच्छा मार्गदर्शन है।
श्री होसबाले ने बताया कि अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की इस बैठक में संघ की आगामी तीन वर्ष की कार्ययोजना तैयार की जाएगी। कार्यकारी मंडल की रचना तीन वर्ष के लिए होती है। मार्च-2018 में यह तीन वर्ष पूरे हो रहे हैं। इसलिए कार्यकारी मंडल की रचना के संबंध में भी विचार किया जाएगा, जिसे मार्च-2018 में होने वाली प्रतिनिधि सभा की बैठक में अंतिम स्वरूप दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि बैठक में संघ के कार्य विस्तार,वर्तमान में चल रहे कार्यों का वृत्त एवं कार्यों की उपलब्धि का वृत्त प्रस्तुत किया जाएगा। पिछले छह माह के कार्य की समीक्षा होगी। बैठक में संघ शिक्षा वर्ग (कार्यकर्ता प्रशिक्षण वर्ग) के संबंध में भी चर्चा होगी।
सह सरकार्यवाह श्री दत्तात्रेय होसबाले ने बताया कि मध्यप्रदेश में संघ का कार्य प्रारंभ से ही अच्छा है। मध्यप्रदेश ने संघ को अनेक प्रामाणिक कार्यकर्ता दिए हैं। लम्बे समय के बाद अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की बैठक भोपाल में हो रही है। उन्होंने कहा कि विजयादशमी पर सरसंघचालक का उद्बोधन संघ की नीति को दर्शाता है। संघ ने देश के लगभग 20 स्थानों पर बुद्धिजीवियों के बीच उद्बोधन में आए विभिन्न विषयों पर चर्चा का आयोजन किया है। सरसंघचालक ने विभिन्न विषयों को लेकर जो अभिप्राय प्रकट किया,उसके प्रति प्रबुद्ध वर्ग ने भी सहमति एवं समर्थन जताया है। श्री होसबाले ने कहा कि सबको अपने मत को लेकर दृढ़ रहना चाहिए, परंतु समाज के बीच स्वस्थ संवाद होना चाहिए। संघ के कार्यकर्ताओं पर हो रहे हमलों के संबंध में उन्होंने बताया कि केरल, पश्चिम बंगाल, पंजाब और कर्नाटक सहित कुछ अन्य स्थानों पर संघ के कार्यकर्ताओं पर जानलेवा हमलों की संख्या बढ़ी है। संघ के कार्यकर्ताओं पर हमले हमलावरों की वैचारिक पराजय का प्रदर्शन करते हैं। एक विशेष विचारधारा का अस्तित्व बचाने के लिए हताशा में उसके कार्यकर्ता संघ के स्वयंसेवकों पर हमले कर रहे हैं।
प्रदर्शनी 'धरोहर' का उद्घाटन : महापुरुषों के जीवन दर्शन पर केंद्रित प्रदर्शनी 'धरोहर' का उद्घाटन गुरुवार प्रात: 8:15 बजे सह सरकार्यवाह श्री सुरेश जी सोनी ने किया। प्रदर्शनी में पद्मभूषण कुशोक बकुल रिनपोछे के जीवन दर्शन को दिखाया गया है। यह उनका जन्मशताब्दी वर्ष है। उन्होंने जम्मू-कश्मीर में शिक्षा के प्रसार और समाज सुधार के लिए महत्वपूर्ण कार्य किया। इसके साथ ही 350वीं जयंती के उपलक्ष्य में गुरु गोविंद सिंह और150वीं जयंती के उपलक्ष्य में भगिनी निवेदिता के जीवन दर्शन को भी प्रदर्शित किया गया है। संघ के संस्थापक डॉ. केशव बलिराम हेडगेवार के संबंध में भी चित्र प्रदर्शित किए गए l

Friday, October 13, 2017



RSS Sarsanghachalak Mohan Ji's letter


திரு ராமகோபாலன்ஜியின் 91வது பிறந்தநாள் கொண்டாட்ட விழா காமராஜர் அரங்கத்தில் 5 மணியளவில் துவங்கியது.

தமிழ்நாட்டு பாரம்பரிய நடனம் வந்தவர்களை வரவேற்றது. அரங்கிற்குள் நுழையும் போது விநாயகர் தரிசனம்.

91 பெண்கள் ஆரத்தி ஏந்தி வரவேற்க மங்கள இசையுடன் நிகழ்ச்சி துவங்கியது. பின்னர் வீரமணி அவர்களின் இசை நிகழ்ச்சி. தொடர்ந்து கடம் வித்வான் ஸ்ரீ. விக்கு விநாயக்ராம் அவர்களின் கடம் என நிகழ்ச்சி களை கட்டியது.அதன் பின்னர் பெண் குழந்தைகளோடு புஷ்பாஞ்சலி பரதநாட்டிய நிகழ்ச்சி..

விழா ஏற்பாடுகள் சிறந்த முறையில் செய்யப்பட்டு இருந்தன . மேடையில் இருந்த எல் சி டி திரையில் இந்து முன்னணியின் சாதனைகள்,கோபாலன் ஜியின் வாழ்க்கை பயணம், வீரத்துறவி பற்றிய பிரமுகர்கள் பேட்டி போன்றவை தொடர்ந்து ஒளிபரப்பப்பட்டது சிறப்பாக இருந்தது.. வின் டிவி குழுவினர் நேரலையில் அருமையாக ஒளிபரப்பினர்..

பல்வேறு கோவில்களில் இருந்து ப்ரசாதங்களும் மரியாதைகளும் வந்து சேர்ந்தபடி இருந்தன.. பல்வேறு இந்து அமைப்பினை சேர்ந்த பிரமுகர்கள் தொடர்ச்சியாக வந்த வண்ணம் இருந்ததும் அதை நிகழ்ச்சி தொகுப்பாளர் மேடையில் இடை இடையே குறிப்பிட்டு வரவேற்றதும் பாராட்டுதலுக்குரியது

கலைநிகழ்ச்சிகளுக்கு பின்னர் திருமதி. தேச மங்கையர்க்கரசி அவர்களின் ஹிந்து சமயம் குறித்து பேசினார். தன் உரையின் போது இந்து மதம் நமக்கு வழிபாடு முறைக்கான சுதந்திரத்தை வழங்கி உள்ளது. அந்த சுதந்திரத்தை முறையாக பயன் படுத்தி கொள்ளவேண்டும் என்றார். திரு ராமகோபாலன்ஜி நாத்திக பிரச்சாரம் கோலோச்சிய காலத்தில் 80களிலேயே தைரியமாக வீரத்துறவியால் ஆரம்பிக்கப்பட்ட இயக்கம் இந்து முன்னணி என்றார்

தொடர்ந்து வீரத்துறவி இராம.கோபாலன் ஜி மேடைக்கு வந்தார். அரங்கமே எழுந்து நின்று கரகோஷத்துடன் தங்கள் மரியாதையையும் மகிழ்ச்சியையும் வெளிப்படுத்தியது. வீரத்துறவி மேடைக்கு வந்ததும் திருவான்மியூர் வேத பி பாடசாலையை சேர்ந்த திரு நீலகண்ட கனபாடிகள் குழு வேத கோஷம் முழங்க ஆசீர்வாதம் செய்தனர்

தொடர்ந்து நிகழ்ச்சியில் கலைவிருந்து அளித்த கலைஞர்களுக்கு பொன்னாடை போர்த்தி கவுரவிக்கப்பட்டது. இந்து முன்னணி மாநில நிர்வாகிகள், மத்திய அமைச்சர் திரு பொன்னார்,, நீதியரசர் திரு வள்ளிநாயகம் ராமகிருஷ்ணா மடம் துறவி பூஜனிய விமூர்த்தானந்தர், வேலூர் வி ஐ டி துணைவேந்தர் திரு செல்வம், பா ஜ மாநில தலைவர் டாக்டர் தமிழிசை திரு இல நடராசன் ஆர் எஸ் எஸ் திரு இல கணேசன் திரைப்பட ஐ யக்குனர் திரு கஸ்தூரி ராஜா திரு அமர் பிரதாப் ரெட்டி ஆகியோர் மேடையில் வரவேற்கப்பட்டனர்

அனைவரும் மேடையில் அமர்ந்தபின் தலைவர்கள் வாழ்த்துரை துவங்கியது.திரு பக்தன் ஜி வரவேற்புரை வழங்கினார். வரவேற்ப்புரையில் கோபாலன் ஜி சீர்காழியில் பிறந்தார். அங்கே பிறந்த சம்பந்தர் சைவத்திற்க்காக சுற்று பயணம் மேற்கொண்டார். அங்கே பிறந்த திருமங்கையாழ்வார் வைணவத்திறகாக சுற்றுப்பயணம் மேற்கொண்டார் .அந்த மமண்ணில் பிறந்த வீரத்துறவியோ இந்து மதத்திற்க்காக இன்றளவும் பயணிக்கிறார் என்று குறிப்பிட்டார்.

ஆர் எஸ் எஸ் சர்சங்கசாலக் திரு மோகன் பகவத் அனுப்பிய வாழ்த்து மடல் மேடையில் வாசிக்கப்பட்டது. கடுமையான ஒழுக்கம் ,சிந்தனை செயலின் தூய்மை ஆகியவற்றை கடைப்பிடிப்பவர் திரு கோபாலன்ஜி என்று கடிதத்தில் வாழ்த்தி இருந்தார்

பூஜனீய விமூர்த்தானந்தர் பேசுகையில் பாரத தேசத்தின் லட்சியத்தின அடிப்படையானதொண்டும் துறவும் இவையே வீரத்துறவியின் வாழ்க்கை முறை என்று பாராட்டினார். இரவு எவ்வளவு நேரம் கண் விழித்தாலும் அதிகாலை மணிக்கு எழுந்து 1008முறை காயத்ரி மந்த்ர உச்சாடனம் செய்வதே இவரின் மன உறுதிக்கு காரணம் என்றார். விவேகானந்தர் கேட்ட 100 இளைஞர்களில் முதல் இளைஞர் திரு ராமகோபாலன்ஜி என்று சிலாகித்து பேசினார்.

மத்திய அமைச்சர் திரு பொன்னார் பேசுகையில் 8௦களில் திரு ராமகோபாலன் ஜி அவர்களுக்கு உதவியாளராக அவரோடு பயணம் செய்த நினைவுகளை குறிப்பிட்டு பேசினார் .

குமுதம் ஜோதிடம் புகழ் திரு ஏ எம் ராஜகோபாலன் பேசுகையில் சிருங்கேரி பீடம் பூஜனீய வித்யாரண்யர்யருக்கு பிறகு நமக்கு கிடைத்த வீரத்துறவி திரு ராமகோபாலன்ஜி என்று கூறினார்

திரு அமர்ப்பிரதாப் ரெட்டி பேசுகையில் இந்துக்களுக்கு யாரும் ஸ் சத்தியத்தையும் அஹிம்சையையும் பற்றி யாரும் பாடம் நடத்த தேவை இல்லை. இப்போது இந்துக்களுக்கு தேவை சத்திய பராக்கிரமம்தான் என்று கோபாலன்ஜி கூறுவதை பின்பற்ற வேண்டும் ஏன்றார்

பா ஜ மாநிலத்தலைவர் திருமதி தமிழிசை பேசுகையில் இப்பேற்பட்ட மஹானுக்கு அவர் வாழ்நாளிலேயே தமிழகத்தில் காவி ஆட்சி பீடம் ஏற்க செய்வதுதான் சிறந்த கைம்மாறாக இருக்க முடியும் என்று உரைத்தார்

இயக்குனர் கஸ்தூரி ராஜா பாம்புக்கு நடுங்கும் மக்கள் இ ருக்கும் இக்காலத்தில் பாமுக்கே நடுங்கா வீரம் இருப்பதால்தான் அவர் வீரத்துறவி என்று பேசினார்

வி ஐ டி துணைவேந்தர் திரு செல்வம் பேசுகையில் கோபாலன் ஜியின் வது பிறந்த நாள் விழா வேலூர் கோட்டையில் நடைபெற்றதை ன் இணைவு கூர்ந்தார். வேலூர் மக்கள் ஜலகண்டேஸ்வரர் கோவிலை மறுபடி ஸ் தப்பித்த ராமகோபாலன்ஜிக்கு கடமை பட்டவர்கள் ஏ ன்று நன்றி கூறினார்

இறுதியாக திரு கோபாலன் ஜி தன ஏற்புரையில் எனக்கு பிறகு யார் வருவார்கள் என்ற கேள்விக்கே இடமில்லை. நான் போனால் எனக்கு பின்னால் பேர் வர 100பேர் இருக்கிறார்கள் என்று கூறினார்

Thursday, October 12, 2017



RSS All India Executive Council Meet of Rashtriya Swayamsevak Sangh begins at Sharda Vihar Awasiya Vidyayala Bhopal today. In the meeting, the expansion of Sangh work, exchanging the experience, achievement of any work in the state will be shared/presented in the meet. Action plan for the next three years will also be discussed, said Dr. Manmohan Vaidya, RSS Akhil Bharatha Prachar Pramuk at the press conference on October 11. Shri Narendra Singh Thakur, RSS Akhil Bharatha Sah Prachar Pramuk and Shri Ashok Agarwal, Prant Karyawah were present. State Presidents, State Organizers, State Secretaries of RSS – around 300 from 42 prants will be attending the Executive Council Meet. Earlier in the meeting of the Executive Board, the officers of various organizations were also involved.The meeting of officials of various organizations has been held in Vrindavan. RSS National bearers of organizations like Vanavasi Kalyan Ashram, Akhil Bharatiya Vidyarthi Parishad, Vishwa Hindu Parishad, Kisan Sangh, Vidya Bharati and BJP will be attending this meet. In this meet, only action plan of Sangh activities will be discussed. Also the work done in the last six months will be evaluated and the achievements will be presented. In the past year, the work of the RSS has increased rapidly. At present, the shakas are operating at almost 50 thousand places. In Sangh, the election of Sarkaryavah is done every three years. The term of the present General Secretary is being completed in March 2018. With this vision, the next three year plan will be considered in the meeting. In response to a question, he said that on the anniversary of Dr Mohan Bhagwat, the Sarsanghchalak, on VijayaDashami, there has been discussion among intellectuals in 20 places. The Sangh interacts with the enlightened class from time to time. The Sangh wants that other organizations and individuals come in the field of social organization and person building. In yet another question on the recent Rahul Gandhi’s remarks on RSS, Dr.Vaidya said, “Deliberately concocted baseless reports appeared in some media that RSS will consider entry of women in shakhas (reportedly). RSS works with men only in Shakas and through them we connect with their families. Shakha work among women is being conducted by Rashtra Sevika Samiti. In all programs and campaign in society, women also are participating. Women create an atmosphere of co-operation in families to support RSS.” He further said that RSS by its constitution is not a political party for Congress to compare with. They should compete with BJP which is political.



Saturday, September 30, 2017




ஆர்.எஸ்.எஸ். அகில பாரதத் தலைவர் டாக்டர் மோகன் பாகவத் நாகபுரியில் விஜயதசமி (30.9.2017) அன்று ஆற்றிய பேருரை
மங்களகரமான விஜயதசமித் திருநாளைக் கொண்டாட நாம் இங்கே கூடியிருக்கிறோம். இந்த ஆண்டு பத்மபூஷண் குஷக் பகுலா ரிம்போச்  அவர்களின் பிறந்த நூற்றாண்டு. இதுவே சுவாமி விவேகானந்தரின் சிகாகோ சொற்பொழிவின் 125வது ஆண்டும் சகோதரி நிவேதிதையின் 150வது பிறந்த ஆண்டும்கூட..